राजकोट. क्रिस लिन (नाबाद 93) और कप्तान गौतम गंभीर (नाबाद 76) की सलामी जोड़ी के बीच हुई रिकार्ड शतकीय साझेदारी के दम पर कोलकाता नाइट राइडर्स ने इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) के 10वें संस्करण में गुजरात लायंस को 10 विकेट से हराकर विजयी शुरुआत की है।

गुजरात ने कोलकाता के सामने 184 रनों का लक्ष्य रखा था जिसे कोलकाता ने 14.5 ओवरों में बिना विकेट खोए ही हासिल कर लिया। यह टी-20 क्रिकेट इतिहास में 10 विकेट रहते हुए हासिल किया गया सबसे बड़ा लक्ष्य है।
सौराष्ट्र क्रिकेट संघ स्टेडियम में खेले गए इस मैच में गंभीर और लिन ने कोलकाता के लिए 12.40 की औसत से रन जोड़े। मैन ऑफ द मैच लिन ने अपनी पारी में 41 गेंदों का सामना करते हुए छह छक्के और आठ चौके लगाए। वहीं कप्तान गंभीर ने 48 गेंदें खेलीं और 12 चौके लगाए।

लिन ने 19 गेंदों में अर्धशतक पूरा किया जो आईपीएल में कोलकाता की तरफ दूसरा सबसे तेज अर्धशतक था। यह आईपीएल में कोलकाता की तरफ से किसी भी विकेट के लिए सबसे बड़ी साझेदारी भी है। इससे पहले यह रिकार्ड गंभीर और जैक कालिस के नाम था जिन्होंने 2011 में राजस्थान रॉयल्स के खिलाफ चौथे विकेट के लिए 152 रनों की साझेदारी की थी। दोनों बल्लेबाजों ने गुजरात के गेंदबाजों की पहले ओवर से धुनाई शुरू से ही की और महज 5 ओवरों में 53 रन जोड़ डाले। अच्छी शुरुआत के बाद इन दोनों बल्लेबाजों में आत्मविश्वास बड़ा और अगले तीन ओवरों में इस जोड़ी ने 53 रन जोड़ते हुए टीम को आठ ओवर में 103 के स्कोर तक पहुंचा दिया। गुजरात के गेंदबाज अंत तक इस साझेदारी को नहीं तोड़ सके।

इससे पहले कोलकाता ने टॉस जीतकर गुजरात को बल्लेबाजी का आमंत्रण दिया था। पहले बल्लेबाजी करते हुए गुजरात ने निर्धारित 20 ओवरों में चार विकेट खोकर 183 रन बनाए। कप्तान सुरेश रैना (68) के अलावा दिनेश कार्तिक ने 47 रनों का योगदान दिया और कप्तान के साथ चौथे विकेट के लिए 87 रनों की साझेदारी की। रैना को हालांकि अपनी पारी में तीन बार जीवनदान मिला। छठे ओवर में कुलदीप यादव ने उनका मुश्किल कैच छोड़ा। युसूफ पठान ने 17वें ओवर की तीसरी गेंद पर सीमा रेखा पर उनका कैच टपकाया। 14वें ओवर की दूसरी गेंद पर ट्रैंट बाउल्ट ने उनका बेहतरीन कैच लपका, लेकिन अपने आप को बाउंड्री के बाहर गिरता देख तुरंत गेंद छोड़ दी।

रैना ने अपनी पारी में 51 गेंदों का सामना किया और सात चौके लगाए। वह आईपीएल इतिहास में सबसे ज्यादा रन बनाने वाले बल्लेबाज भी बन गए हैं। उन्होंने विराट कोहली को इस मामले में पीछे छोड़ा। कोलकाता ने टॉस जीतकर गुजरात को बल्लेबाजी के लिए आमंत्रित किया। ब्रैंडन मैक्कलम (35) और जैसन रॉय (14) ने टीम को अच्छी शुरुआत दी। दोनों ने 3 ओवर तक टीम के खाते में 22 रन डाल दिए थे। चौथे ओवर की पहली गेंद पर रॉय, पीयूष चावला की गेंद पर बड़ा शॉट खेलने की कोशिश में पठान के हाथों लपके गए।

दूसरे छोर पर खड़े मैक्कलम ने अपनी आक्रामक खेल चालू रखा और लगातार रन बनाते रहे। मैक्कलम की पारी पर कुलदीप यादव ने लगाम लगाई। सातवें ओवर में मैक्कलम से एक छक्का और एक चौका खाने के बाद नौवें ओवर की पहली गेंद पर कुलदीप ने मैक्कलम को पगबाधा आउट किया। कुलदीप कोलकाता के सबसे सफल गेंदबाज रहे। उन्होंने अपने कोटे के चार ओवरों में महज 25 रन देकर दो विकेट लिए।

मैक्कलम की जगह आए एरॉन फिंच (15) ने बड़े शॉट्स खेलने के लिए ज्याद समय नहीं लिया और पठान पर दो शानदार छक्के जड़े। हालांकि वह अपने आक्रामक तेवर ज्यादा देर नहीं दिखा पाए और कुलदीप ने उन्हें सीमा रेखा पर सूर्यकुमार यादव के हाथों कैच करा अपनी दूसरी सफलता हासिल की।

इस बीच सुरेश रैना ने एक छोर से अपने स्कोर बोर्ड को अच्छी तरह से चला रहे थे। दिनेश कार्तिक (47) ने अपने कप्तान अच्छा साथ दिया और अंत में अच्छे हाथ दिखाए। कार्तिक हालांकि अपना अर्धशतक पूरा नहीं कर पाए और आखिरी ओवर में आउट हुए। उन्होंने 25 गेंदों की अपनी पारी में छह चौके और दो छक्के लगाए।