बेंगलुरू. पहले मंगलयान फिर एक साथ 104 सैटेलाइट लॉन्च करके भारतीय अंतरिक्ष एजेंसी ISRO ने नया कीर्तिमान रचा। अभी इसकी खुशी कम ही हुई थी कि अब ISRO एक बार फिर कामयाबी का नया कीर्तिमान स्थापित करने की तैयारी में है। जी हां, भारत जल्द ही पूरे एशिया क्षेत्र के लिए एक सैटेलाइट लॉन्च करने जा रही है, जो पाकिस्तान को छोड़कर सभी पड़ोसी देशों के लिए फायदेमंद साबित होगा।

ISRO 5 मई को ‘साउथ एशिया सैटेलाइट’ लॉन्च कर सकता है। खबरों की मानें, तो मई के पहले हफ्ते में संचार सैटेलाइट (GSAT-9) को एजेंसी के GSLV-09 रॉकेट के जरिए श्रीहरिकोटा अंतरिक्ष केंद्र से लॉन्च किया जाएगा।

बता दें, इसकी घोषणा 2014 में ही कर दी गई थी। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने काठमांडू में हुए सार्क सम्मेलन के दौरान इसे अपने पड़ोसी देशों के लिए एक उपहार बताया था। वहीं पहले इसका नाम ‘सार्क सैटेलाइट’ रखा गया था, लेकिन पाकिस्तान इस परियोजना का हिस्सा नहीं बनना चाहता था, इसके बाद इसे ‘साउथ एशिया सैटेलाइट’ का नाम मिला।

आपको बता दें, इस उपग्रह का उद्देश्य दक्षिण एशिया के देशों के बीच संपर्क, संचार और आपदा सहायता उपलब्ध कराना है। वहीं, इसे इस तरह डिजाइन किया गया है कि जिससे यह अपने मिशन पर 12 साल से ज्यादा काम कर सकेगा।